धोखा मिला जब प्यार में

1. धोखा मिला जब प्यार में;
ज़िंदगी में उदासी छा गयी;
सोचा था छोड़ दें इस राह को;
कम्बख़त मोहल्ले में दूसरी आ गयी!

2. लेकर के मेरा नाम मुझे कोसती तो है,
नफरत में ही सही पर मुझे सोचती तो है।

3. कोई वादा ना कर,
कोई ईरादा ना कर
ख्वाईशों में खुद को आधा ना कर
ये देगी उतना ही जितना लिख दिया खुदा ने
इस तकदीर से उम्मीद ज्यादा मत कर ।

Leave a Reply