Gulab ki mehak bhi fiki lagti hai

गुलाब की महक भी फीकी लगती है
कौन सी खुशबु मुझमें बसा गई हो तुम,
जिंदगी क्या है तेरी चाहत के सिवा,
ये कैसा ख्वाब आँखों को दिखा गई हो तुम?

Gulab ki mehak bhi fiki lagti hai,
Kaun si khushbu mujme basa gayi ho tum,
Zindgi hai kya teri chehat ke siva,
Yeh keisa khawb aankho ko dikha gayi ho tum

Happy valentine day my soul mate…

Leave a Reply