Teri Chuppi Ka Sabab

तेरी चुप्पी का सबब हम जानते है ।
लरज़ते होंठों की शिकायत हम जानते है ।
मेरी हिचकी भी दे रही है गवाही मुहब्बत की,
तेरे पलकों की हरकत भी हम जानते है ।

Leave a Reply